ज्वालामुखी में श्रावण अष्टमी नवरात्र शुरू, कोरोना प्रोटोकॉल के तहत हो रहे दर्शन

ज्वालामुखी। (पंकज शर्मा) शक्तिपीठ ज्वालामुखी मंदिर में श्रावण अष्टमी नवरात्रों का भव्य आगाज हुआ। सुबह ही श्रद्धालु लाइनों में लगे हुए दिखे और श्रद्धालुओं ने दिव्य ज्योतियों के दर्शन कोविड प्रोटोकॉल के तहत किये। जयकारों से मंदिर भवन गूँज रहा था।
नवरात्रों के दौरान मंदिर के अंदर नारियल, ढोल नगाड़े ले जाना पूर्णतया बंद किया गया है और धारा 144 लागू होने पर किसी भी प्रकार के हथियार या आग्नेय वस्तु मंदिर क्षेत्र में ले जाना वर्जित है। इसके साथ ही बिना आरटीपीसीआर और कोविड वैक्सीन सर्टिफिकेट के श्रद्धालु मन्दिर में प्रवेश नहीं कर पा रहे हैं।

यह भी पढ़ें- चंडीगढ़ में पार्किंग का टिकट बेचने को मजबूर युवा मुक्केबाज (Video)

यह भी पढ़ें- नीरज चोपड़ा के इतिहास रचने के पीछे की कहानी

मंदिर प्रशासन की तरफ से पुख्ता इंतजाम किये गए हैं। मंदिर में दर्शनों के लिये पंक्तिबद्ध तरीक़े से ही दर्शन करवाये जा रहे हैं। नो मास्क नो दर्शन की कवायद को भी अपनाया जा रहा है। पंक्तियों के इर्द गर्द सुरक्षा कर्मी पूरी तरह से नजर जमाये हुये हैं। बस स्टैंड से लेकर मंदिर के चारों गेट तक पुलिस जवान चप्पे चप्पे पर अपनी ड्यूटी पर तैनात दिखे।

इस बाबत पुजारी महासभा प्रधान पुजारी अविनेन्द्र शर्मा ने बताया कि आज श्रावण माह के अंतिम दिन श्रावण माह के नवरात्र शुरू हो गए हैं, श्रद्धालु दर्शनों को पहुंच रहे हैं, कोरोना का असर भीड़ पर पड़ा है। माता ज्वाला सभी भक्तों के दुःख दूर करे और जल्द ही कोरोना महामारी से पूरे विश्व प्रदेश देश से नाश करें।