खेलों के विकास में हरियाणा मॉडल पूरे देश में बन रहा है नज़ीर : मुख्यमंत्री

चंडीगढ़। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि हरियाणा का खेल मॉडल आज पूरे देश में नज़ीर बन रहा है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हरियाणा के खिलाड़ियों के पदकों की संख्या देखकर दूसरे प्रदेश भी हरियाणा पर रिसर्च कर रहे हैं। इसी मॉडल को समझने के लिए गुजरात की एक टीम हरियाणा में 15 दिन के दौरे पर आ रही है। मुख्यमंत्री रविवार को झज्जर जिला के गांव खुड्डन में ओलंपिक मेडलिस्ट पहलवान बजरंग पूनिया के सम्मान समारोह में बतौर मुख्यातिथि बोल रहे थे।

समारोह में मुख्यमंत्री सहित भाजपा प्रदेशाध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़, खेल मंत्री संदीप सिंह, रोहतक लोकसभा क्षेत्र से सांसद डॉ. अरविंद शर्मा, गोंडा से सांसद एवं कुश्ती संघ के प्रधान बृज भूषण शरण ने पहलवान बजरंग पूनिया का सम्मान किया। सम्मान समारोह में मुख्यमंत्री ने खुड्डन गांव की ओर से रखी गई सभी मांगों के पूरा करवाने की घोषणा की जिस पर ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री का आभार जताया। पहलवान बजरंग पूनिया हरियाणा सरकार और गांव वालों से सम्मान पाकर अभिभूत हो गए।


सम्मान समारोह में मुख्यमंत्री ने कहा कि पहलवान बजरंग पूनिया ने पूरे विश्व में भारत और हरियाणा का नाम रोशन किया है। उन्होंने कहा कि मौजूदा सरकार खेल और खिलाड़ियों को आगे लाने के लिए निरन्तर प्रयास कर रही है। उन्होंने बताया कि हाल ही में सम्पन्न हुए टोक्यो ओलम्पिक व पैरा ओलम्पिक में हरियाणा के विजेता खिलाड़ियों को सरकार की ओर से पूरा मान सम्मान दिया जा रहा है। ओलम्पिक में स्वर्ण पदक विजेता को 6 करोड़ रुपए, रजत पदक विजेता को 4 करोड़ रुपए व कांस्य पदक विजेता खिलाड़ी को ढाई करोड़ रुपए की सम्मान राशि से नवाजा जा रहा है।

यह भी पढ़ें- मुजफ्फरनगर में किसानों की महापंचायत, कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग दोहराई

यह भी पढ़ें- पंचकूला में सभी पात्र व्यक्तियों को लगी कोरोना वैक्सीन की पहली डोज

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि प्रदेश में 500 खेल नर्सरियों के लक्ष्य को अब आगे बढ़ाकर 1000 तक पहुंचाने की योजना है जिसके तहत स्कूली स्तर पर ही खिलाड़ियों की पौध तैयार होगी। आने वाले वक्त में खेलो इंडिया का आयोजन भी प्रदेश कर रहा है जिसमें 15000 से ज्यादा खिलाड़ी हिस्सा लेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें पूर्ण विश्वास है कि इन खेलों में भी हरियाणा पूरे देश में अग्रणीय रहेगा।


मुख्यमंत्री ने संबोधित करते हुए कहा कि खेलों के साथ-साथ पढ़ाई और पढ़ाई के बाद रोजगार पर भी सरकार बल दे रही है इसलिए पाठ्यक्रम में कौशल विकास को तरजीह दी गई है। सम्मान समारोह में पहलवान बजरंग पूनिया के कोच द्रोणाचार्य अवार्डी सतपाल पहलवान, रामफल मान व वीरेंद्र आर्य को गुरु के रूप में सम्मान स्वरूप सरकार की ओर से 4-4 लाख रूपए की राशि देने की घोषणा की गई । साथ ही झज्जर जिला में स्थित सभी खेल स्टेडियम में एक-एक कोच, माली अथवा चौकीदार तथा घास काटने की मशीन देने के निर्देश खेल निदेशक को दिए।