भारत बंद का सुबह से ही दिखने लगा असर, किसानों ने कई सड़कों को किया जाम

चंडीगढ़। संयुक्त मोर्चा के भारत बंद के आह्वान का सोमवार सुबह से असर देखने को मिला। सुबह 6 बजे से किसानों ने धरना लगाते हुए सरकार के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। प्रदर्शनकारी किसानों का कहना था कि जब तक कृषि कानून रद्द नहीं होते, विभागों का निजीकरण बंद नहीं होता और बिजली अधिनियम 2021 को रद्द नहीं किया जाता तब तक आंदोलन जारी रहेगा।


भारत बंद के आह्वान पर किसानों ने दिन चढ़ते ही अंबाला में दिल्ली-अमृतसर नेशनल हाईवे जाम कर दिया। जिसके बाद दिल्ली-अमृतसर नेशनल हाईवे कर वाहनों की लंबी-लंबी कतारे लगना शुरू हो गयी हैं। हालांकि किसानों ने जाम से एम्बुलेंस और आर्मी के वाहनों को जाने का रास्ता दिया।

यह भी पढ़ें- वामपंथी उग्रवाद की घटनाओं में आई 23 प्रतिशत की कमी: गृहमंत्री

यह भी पढ़ें- पेपर लीक नेटवर्क को खत्म करने के लिए सरकार ने उठाया कदम, जारी किया टोल फ्री नंबर

नेशनल हाईवे पर किसानों के जाम के चलते भारी पुलिस बल भी तैनात किया गया है ताकि किसी भी तरह की कानून व्यवस्था ना बिगड़े। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि पुलिसकर्मी मौके पर तैनात हैं और किसी को भू कानून हाथ में लेने नहीं दिया जायेगा।

उल्लेखनीय है कि कृषि कानूनों के विरोध में किसानों के आंदोलन को दिल्ली बोर्डर पर 10 माह का समय हो चुका है। सरकार और किसानों के बीच कई दौर की बातचीत हुई लेकिन कोई सहमित नहीं बन पाई। ऐसे में किसानों ने अपने आंदोलन को तेज करते हुए आज भारत बंद का आह्वान किया है।