हरियाणा की ओर से दिल्ली जाने वाले वैकल्पिक रास्ते होंगे ठीक: गृह मंत्री

चंडीगढ़। हरियाणा के गृह और शहरी स्थानीय निकाय मंत्री अनिल विज ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे किसान आंदोलन के चलते सिंघु बार्डर व टिकरी बार्डर के बंद होने के कारण हरियाणा की ओर से दिल्ली जाने वाले वैकल्पिक रास्तों को तुरंत प्रभाव से ठीक करने का काम शुरू करें ताकि आम जनमानस को हरियाणा की ओर से इन रास्तों से दिल्ली आने-जाने में किसी भी प्रकार की दिक्कत न हो।

दरअसल अनिल विज उच्च अधिकारियों की एक बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि हमें लोगों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए किसान आंदोलन की वजह से मुख्य रास्तों के बंद होने के चलते वैकल्पिक रास्तों को जल्द से जल्द से ठीक करना होगा और इस बारे में कल से ही कार्य शुरू हो जाना चाहिए।

उन्होंने किसानों से बातचीत के लिए गठित की गई राज्य स्तर की कमेटी का ज़िक्र करते हुए कहा कि पिछले दिनों गृह विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव राजीव अरोड़ा की अध्यक्षता में गठित कमेटी से सोनीपत में विभिन्न संस्थाओं व संगठनों के पदाधिकारियों ने मुलाकात की थी और उन्होंने दिल्ली जाने वाले वैकल्पिक रास्तों को ठीक करवाने के लिए कमेटी के सम्मुख अपनी बात रखी थी, जिस पर संज्ञान लेते हुए आज ऐसे सभी वैकल्पिक रास्तों को ठीक करवाने के निर्देश संबंधित एजेंसियों के अधिकारियों को दिए गए हैं।

गृह मंत्री ने सोनीपत से दिल्ली जाने वाले वैकल्पिक रास्ते, जो एचएसआईआईडीसी के अंतर्गत आते हैं, को जल्द से जल्द से ठीक करवाने, कुंडली-मानेसर-पलवल एक्सप्रैसवे पर पब्लिक शौचालय की व्यवस्था करने तथा टयूबलाईट को चालू करने के संबंध में अधिकारियों को निर्देश दिए।


हरियाणा की ओर से दिल्ली जाने वाले वैकल्पिक रास्तों के संबंध में जानकारी देते हुए गृह मंत्री ने बताया कि सेरसा खटकर-बेहरा बाकीपुर से मनोली तक की 8 किलोमीटर सडक़, जीटी रोड़ से जांटी कलां-जाटी खुर्द तक की 5.5 किलोमीटर सडक़, नाथूपुर से सवोली तक की 4.6 किलोमीटर सडक़, जीडी रोड़ से नांगल कलां-पीयू मनीयारी से नरेला बार्डर तक की 4 किलोमीटर सडक़, लामपुर बार्डर से नाहरा-नहरी रोड़ तक की 12.69 किलोमीटर सडक़ और बिस्मामील से जठेड़ी रोड़ तक की 11.75 किलोमीटर सडक़ को पीडब्ल्यूडी द्वारा ठीक करवाया जाएगा। इसी प्रकार, सोनीपत-राठधाना-अकबरपुर बरोटा से सैफियाबाद (दिल्ली बार्डर तक) तक और कुंडली क्षेत्र की अंदर की सडक़ को एचएसआईआईडीसी द्वारा ठीक करवाया जाएगा।

यह भी पढ़ें- 25 सितंबर को जींद में होगी इनेलो की सम्मान रैली, राष्ट्रीय स्तर के नेता करेंगे शिरकत

यह भी पढ़ें- ब्रिटेन ने कोविशील्ड को दी मान्यता, सर्टिफिकेट पर उठाए सवाल

इसी प्रकार, उन्होंने झज्जर जिला की सडक़ों के संबंध में बताया कि बहादुरगढ़ से झारोदा बार्डर (दिल्ली) की 3 किलोमीटर की सडक़, बहादुरगढ से निजामपुर (दिल्ली ) की 3.5 किलोमीटर की सडक़, बहादुरगढ से निजामपुर (दिल्ली ) बाया बमनोली की 4 किलोमीटर की सडक़ पीडब्ल्यूडी द्वारा तथा बहादुरगढ़ से झाडौदा (दिल्ली ) बाया सिदीपुर की 6 किलोमीटर की सडक़ एचएसएएमबी, रेडक्त्रास रोड नियरा पीपीएमआईई से पीवीसी मार्किट दिल्ली (टिकरी) की 2 किलोमीटर की सडक़ एमसी बहादुरगढ़, सैनिक स्कूल से बाईपास से दिल्ली तक की 2 किलोमीटर की सडक़ एमसी बहादुरगढ़, बहादुरगढ़ से नजफगढ़ (दिल्ली) वाया गांव ईशरहेडी की 7 किलोमीटर की सडक़ पीडब्ल्यूडी, बहादुरगढ़ से निजामपुर सडक़ वाया छोटूराम नगर (एमआईई रेलवे क्त्रांसिंग) की 2 किलोमीटर की सडक़ एमसी बहादुरगढ़, तथा सैक्टर-9 मोड से मामा चैक बहादुरगढ़ की 0.7 किलोमीटर की सडक़ , सेक्टर-9 मोड़ से झाडौदा फ्लाईओवर बाईपास की 3 किलोमीटर की सडक़, झाडौदा फलाईओवर बाईपास से बलौर चैक बाईपास की 3 किलोमीटर की सडक़ एनएचएआई द्वारा ठीक करवाई जाएगी।


ऐसे ही, बादली-झज्जर से दिल्ली जाने वाले वैकल्पिक रास्तों के संबंध में श्री विज ने बताया कि बादली से ढांसा (दिल्ली) वाया ढांसा बार्डर की 2 किलोमीटर की सडक़, गांव गुबाना से बकरगढ़(दिल्ली) की 2 किलोमीटर की सडक़, गांव देवरखाना से गांव ढांसा की 2 किलोमीटर की सडक़ और गांव बादली से ढांसा रोड़ नजदीक टीआरएच स्कूल से ईशापुर (दिल्ली ) की 3 किलोमीटर की सडक़ को पीडब्ल्यूडी विभाग द्वारा ठीक करवाया जाएगा।