HPSC भर्ती फर्जीवाड़ा मामला: अनिल नागर समेत तीनों आरोपियों को न्यायिक हिरासत, 26 नवंबर को होगी अगली सुनवाई

चंडीगढ़: हरियाणा लोक सेवा आयोग (HPSC) भर्ती फर्जीवाड़ा मामले में विजिलेंस ने तीनों आरोपियों अनिल नागर, नवीन और अश्विनी को विजिलेंस कोर्ट में किया पेश। कोर्ट ने तीनों आरोपियों HCS अनिल नागर, अश्विनी और नवीन को न्यायिक हिरासत में भेजा है।

स्टेट विजिलेंस टीम ने कोर्ट में सुनवाई के दौरान एक बार फिर से आरोपियों के 3 दिन के अतिरिक्त रिमांड की पेशकश थी, लेकिन कोर्ट ने और रिमांड की इजाजत न देते हुए तीनों आरोपियों को हिरासत में भेजा। अब मामले की अगली सुनवाई 26 नवंबर को होगी। HCS अनिल नागर की 4 दिन का रिमांड खत्म होने के बाद कोर्ट में पेश किया गया था, जबकि आरोपी अश्विनी और नवीन को कोर्ट ने 22 नवंबर को 1 दिन की रिमांड पर भेजा था। इनके रिमांड की अवधि भी आज खत्म हो गई थी। इसके बाद तीनों आरोपियों को आज पंचकूला के सेक्टर-1 में स्थित हरियाणा की विशेष विजिलेंस कोर्ट में पेश किया गया था।

बचाव पक्ष के वकील विशाल गर्ग नरवाना ने जानकारी देते हुए बताया कि विजिलेंस कोर्ट ने स्टेट विजिलेंस ब्यूरो की SIT टीम को फटकार लगाई है। रिमांड अवधि के दौरान आरोपी HCS अनिल नागर को रोहतक ले जाने के दस्तावेज पेश नहीं करने पर SIT हेड को ये फटकार लगाई गई है। साथ ही बचाव पक्ष के वकील विशाल गर्ग नरवाना ने भी रिमांड के दस्तावेजों की मांग की है। विजिलेंस कोर्ट ने स्टेट विजिलेंस ब्यूरो को बचाव पक्ष के वकील विशाल गर्ग नरवाना को दस्तावेज सौंपने के आदेश दिए हैं।